बड़े होने का फर्क

>> Tuesday, 28 April 2009

वह बड़ा हो रहा था
उसे पता नहीं था की कब
कैसे क्या करना है ?
पर वो बड़ी हो रही थी और उसे पता था कि
अब सबसे पहले
चुन्नी ही तो संभालनी है
माँ दीदी से कहा करती थी
अब तू बड़ी हो गई है
अपना भी ध्यान रखा कर .....
वह बड़ा होता है तो उसका
ध्यान तो सिर्फ़ होता है
किसी सरकती हुई चुन्नी पर ही तो
जाति धर्म आयु का भेद भूल कर
वह बन जाता है
एक नेता की तरह
निरपेक्ष
भूखा भेड़िया ?

Read more...

खोना तुमको

>> Sunday, 26 April 2009

क्यों नहीं
वो समझ पाती कि
वो ही तो सहारा है
सारे जहाँ में॥
फिर भी क्यों छोड़ देती है
अकेला ही अंधेरे में
ख़ुद को खोजने के लिए ?
देख लो कहीं
मैं खोज ही न पाऊँ और
तुम अंधेरे में
अनंत रूप से
जुड़ जाओ और
छोड़ जाओ मेरा साथ
सदैव के लिए ।
डर तो लगता है पर
तुम्हारा विश्वाश
संबल देता है कि
मैं हूँ तुम डटे रहो
जीवन के अनेक
अंधकार के अंध तम में ...

Read more...

दोहे

>> Wednesday, 1 April 2009

संजू भइया रह गए, उल्टा हो गया केस,
एक भूल में हो गया कैसे छिपता फेस ॥

Read more...

पिछली पांच रचनाएँ

सीधी खरी बात

  © Free Blogger Templates Joy by Ourblogtemplates.com 2008

Back to TOP