रूद्र

>> Thursday, 20 June 2013

हे ! रूद्र रूप
हे ! महारुद्र,
ये रौद्र रूप
तुम मत धारो ...

तुम विष को धारण
करते हो,
अपने जन को
मत संहारो ....

तुम भोले हो
तुम अविनाशी,
हो शांत
नहीं अब नाश करो ....

तुम ज्ञानी हो
सर्वज्ञ तुम्हीं,
हम अज्ञानी
मत क्रोध करो ....

बद्री विशाल !
तुम हो विशाल,
भोले के तांडव
को रोको ....

हम तो सेवक
तेरे केदार,
बस अब
त्रिनेत्र को बंद करो ....

हे ! विश्वनाथ अब
स्थिर होकर,
प्रभु "आशुतोष"
का रूप धरो ........

1 टिप्पणियाँ:

Ridhi SinglA 14 October 2015 at 11:55  

बहुत ही बढिया

पिछली पांच रचनाएँ

सीधी खरी बात

  © Free Blogger Templates Joy by Ourblogtemplates.com 2008

Back to TOP