दोहे

>> Wednesday, 1 April 2009

संजू भइया रह गए, उल्टा हो गया केस,
एक भूल में हो गया कैसे छिपता फेस ॥

0 टिप्पणियाँ:

पिछली पांच रचनाएँ

सीधी खरी बात

  © Free Blogger Templates Joy by Ourblogtemplates.com 2008

Back to TOP