दुनियादारी

>> Wednesday, 13 July 2011

दर्द सीने का अभी, चेहरे पे आ जाता है !
वक्त के साथ हुनर, उसमें भी आ जायेगा !!

जो बस सबकी ख़ुशी, के लिए ही जीता है !
मौत के बाद वही, सबको रुला जायेगा !!

साथ रहने की क़सम, रात दिन जो खाता है !
क्या पता एक रोज़, वो भी बदल जायेगा  !!

छिपकर के किसी रोज़, कहीं दांव खेलता है !
जीती बाज़ी कोई वो, फिर से हार जायेगा !

आज वो फिर से मुसीबत में घिरा लगता है !
वाकई कौन सगा है,  पता चल जायेगा... !!

3 टिप्पणियाँ:

संगीता पुरी 19 July 2011 at 10:17  

बहुत खूब !!

कविता रावत 20 July 2011 at 09:50  

आज वो फिर से मुसीबत में घिरा लगता है !
वाकई कौन सगा है, पता चल जायेगा... !!
..sach musibat hi pata chalta hai kaun kitna saga hai.. bahut badiya prastuti..
shubhkamnayen!

Smart Indian - स्मार्ट इंडियन 28 October 2011 at 05:25  

बहुत सुन्दर!

पिछली पांच रचनाएँ

सीधी खरी बात

  © Free Blogger Templates Joy by Ourblogtemplates.com 2008

Back to TOP